यदि हम सोचते हैं , हमें कोई बीमारी नहीं है , तो हम गलत हैं

CONTINUUM OF DISEASE (EXAMPLE OF DIABETES)

यदि हमें केवल एक बीमारी है या कोई भी बीमारी नहीं है और हम समझते हैं कि हमें अन्य कोई बीमारी नहीं है तो हम गलत हैं । हमें बहुत सी अन्य बीमारियाँ विभिन्न चरणों (Stages) में होती हैं । जो आने वाले समय (कुछ महीनों या सालों ) के बाद सामने आयेगी । हम इसे पानी में पड़े हुए बर्फ के टुकड़े (Ice Berg) के उदाहरण से समझ सकते हैं । बर्फ के टुकड़े का केवल दसवाँ हिस्सा ही पानी से बाहर दखाई देता है । उसका मुख्य हिस्सा पानी के अन्दर होता है जो हमे दिखाई नहीं देता । बाहर और अन्दर के हिस्से में कोई फर्क नहीं होता । यदि हम उसे बाहर निकाल कर देखें तो उनमें कोई भी फर्क नहीं होता और न ही कोई जोड़ होता है । इसी तरह से हमारी बीमारियाँ जो प्रकट हो चुकी हैं और अन्य बहुत सी जो प्रकट होनी हैं , उनमें कोई फर्क नहीं है । फर्क है तो केवल लक्षणों का । जो ऊपर है उनसे हमें लक्षण आ चुके हैं और जो नीचे हैं , उनसे हमे लक्षण आने बाकी हैं ।

यदि हम डायबीटिज का उदाहरण लें तो इसे हम तीन स्टेज (Stages) में बांट सकते हैं । तीसरी स्टेज में शुगर का स्तर बहुत अधिक होता है और वें डायबीटिज के मरीज कहलाते हैं । दूसरी स्टेज में शुगर हल्की बढ़ी होती है , लकिन सामान्य होती है (अति सामान्य = Optimal नहीं ) प्रथम स्टेज में शुगर बिल्कुल सामान्य होती है । लकिन इसमें अधिकतर में इन्सुलिन का स्तर बढ़ा होता है । यही हम समाज के 100 व्यक्ति लेते है तो 10% व्यक्ति तीसरी स्टेज में हैं । ये डायबीटिज के मरीज कहलाते हैं और इन्हें दवाइयों द्वारा इलाज की जरूरत होती है ।दूसरी स्टेज के व्यक्ति लगभग 30% और प्रथम स्टेज के मरीज 60% होते हैं । प्रथम और दूसरी अवस्था के व्यक्तियों को कारणों को दूर करके काफी हद तक काफी समय के लिए तीसरी स्टेज में जाने से बचा सकते हैं । हमारे अधिकांश बच्चे , युवक और युवतियाँ बीमारी की प्रथम स्टेज पर हैं । इनकी बीमारी को कारणों को दूर करके आगे बढ़ने से रोक सकते हैं । अन्य बीमारियों से भी बचा सकते हैं ।